बीज से फूल तक

आ गया भादों का पानी
काँस के फूलों को दुलारता

और चैत की सुलगती दुपहरी में
पड़ी है मन की चट्टान
एक दूब की हरियाली तक मयस्सर नहीं

तपो
इतना तपो ओ सूर्य
कि फट जाए
दरक जाए यह चट्टान
कि रास्ता बन जाए अंकुर फूटने का
जीवन
बीज से फूल तक
यात्रा बन जाए ।

Leave a Reply