ज़िन्दगी में कुछ ऐसा कर दिखाना है

ज़िन्दगी हर कदम पे कुछ नया दिखाती है,
कभी  साथ तो कभी तनहा रहना सिखाती है,
इस के हर पहलू को हो सके दो दिल से जीना ,
जिसकी हम कदर नहीं करते, ये उसकी एहमियत बताती है।।

जो हमारे सबसे पास है,उसका कोई एहसास नहीं,
कदर उसकी तब हुई जब वो हमारे पास नहीं,
यूँ कहने के लिए तो सब अपने होते हैं,
लेकिन जब उनकी जरुरत पड़ी, तो हम उनके लिए ख़ास नहीं।।

ज़िन्दगी का हर किस्सा सबसे सुहाना होता है,
आज अपना ही अपने के लिए बेगाना होता है,
ख़ुशी से जीने का बस एक ही दस्तूर है,
जिसके पास शोहरत है बस उसी का ज़माना होता है।।

इस उल्घन भरी ज़िन्दगी में मुघे किसी की कमी नहीं,
बस गम यही है की मेरी ख़ुशी खो गयी यही कहीं ,
उन खुशियों के बिना रहना अब आदत सी हो गयी है,
खुशियाँ बहुत नहीं टिकतीं ये बात किसी ने है सही कही।।

कई ऐसे मोड़ मिलेंगे  ,जहाँ दूसरों के लिए मुस्कुराना है,
खुद एक तराना बन के लिए उनके लिए गुनगुनाना है,
इन हसीं फिज़ाओं में एक कारवां हमारा हो,
बस ज़िन्दगी में कुछ ऐसा ही कर दिखाना है।।

Leave a Reply