रात की कंबल

रात की कंबल
बेआवाज दीवारें
नींद तन्हा
कोई रूठ गया है किसी से
और कोई
तार-तार कंबल
उधेड़ रहा है
बुन रहा है…

Leave a Reply