दोस्ती

डूब गया हूँ इतना अब मैं, की मैं तैर रहा हूँ
दोस्ती की गहराईओँ का पता फिर भी न मिला |

जनक

Leave a Reply