नूर

है नूर ही ऐसा तेरी नज़र का, जैसे उजाला हो तू जहाँ भी है,
हरपल, हरदिन हमें, इसी कारण तेरा इन्तज़ार रहता ही है |

जनकHeart

Leave a Reply