दर्द मिला हमको पर जीना ना आया

दर्द मिला हमको पर जीना ना आया,

मासूम था दिल इसलिए पीना ना आया,

उलझते गये जिन्दगी के अनसुझे सवालों में,

इस तरह के आज भी जख्म सीना ना आया.

;-सुहानता ‘शिकन’

Leave a Reply