अन्तर्देशीय

धूप में नहाया
एक नीला आकाश
तुमने मुझे भेजा

अब इन झिलमिलाते तारों का
क्या करूँ मैं
जो तैरने लगे हैं
चुपके से मेरे अंधेरों में

क्या करूँ इन परिन्दों का
तुम्हारे अन्तर्देशीय से निकलकर
जो उड़ने लगे हैं मेरे चारों तरफ़

तुम्हारे न चाहने के बावजूद
तारों और परिन्दों के साथ
चुपचाप चले आए हैं
न जाने कितने सजल मेघ
जो चू पड़ना चाहते हैं
मेरे निर्जन में ।

Leave a Reply