प्यार का शोक-गीत

इतने सारे तारे हैं
और आकाश के रंग में घुली है
एक तारे के टूट जाने की उदासी

इतने सारे फूल हैं
और पौधे की जड़ों में बसा है
एक फूल के झड़ जाने का दर्द

जिस तरह
रंग और ख़ुशबू को जुदा करके
हम फूल को नहीं कह सकते फूल
मैं कैसे कह सकूंगा तुम्हारे बिना
इस सड़क को सड़क
नदी को नदी
और पुल को पुल

इस शहर को शहर
अब मैं कैसे कह सकूंगा ।

Leave a Reply