हाइकु — पराशर गौर

माथै बिन्दिया

चमके एसे जैसे

फूल गुलाब  !

———

 

तेरी चुनर

बाते करे ह्वा से

पह्ली बन  !

Leave a Reply