परिवर्तन कब होगा ?

परिवर्तन कब होगा ?

गरीबों के दर्द मे हिस्सेदार हैं सारे मतलब के सरदार
बस्ती बस्ती घूमते नज़र आये पांच साल मे एक बार |

हो के पास सब कुछ,है पर नहीं कुछ,गरीबी के तरफ़दार
गरीबों को मिटाकर के गरीबी मिटाने के दिखते है आसार|

रंजिशों की फ़सल बो कर ये बाँट रहें मजहब को बार -बार
खून के रंग से तिलक लगा के सत्ता की सियासत को बेकरार|

ज़ुल्म भी यह करते बेगुनाहों पर,मरहम लेकर बने मददगार
बेवस जनता है, सारे लाचार,फ़रियादी से करते झूठी तकरार ।

कहते हैं, सूरत बदल बदल जायेगी जब बनेगें यह सियासतदार
फ़ितरत बदले नहीं,बदल जायेगी सुरत इनकी,नहीं इससे इन्कार|

ताकत के -गुमान से,शोहरत के अभिमान से,फैलाएं यह भ्रस्टाचार
हर बार की तरह इस बार भी,हसरत पुरी कर देगें हम होकर लाचार|

कब तक सिमटते रहेगें हम सब,सिसकते-सिसकते मागेंगे अधिकार
आजमाइश की तकलीफ़,सहते रहते महगाई,अन्याय,और भ्रस्टाचार|

पुरज़ोर बदलाव के जख्म की खातिर,हम घर मे छिपे रहते हैं हरबार
गुफ़्तगू की छांव मे,बड़ी-बड़ी बातों से यारों,हवा मे भान्झते है तलवार|

चर्चे तो इन्कलाबी पैगाम के हर शाम होते हैं,उपर से तालियों की बौछार
तोतली जुवां भी सपाट रहनुमाई बोलती,पर कुछ करने को होती नागवार|

सजन कुमार मुरारका

Leave a Reply