दिल की मौसमी चाल

दिल की मौसमी चाल

सर्द बर्फीली रातों का ठंडा सन्नाटा,
ज़िस्म को भेदता फैला रहा-
शीतलतम लहर अंदर तक;
टटोल कर देखा यादों की सर्द आहें,
तन को उस्मा पहुँचाने जलाइ आग ,
स्मृतीयों से कुछ काठ-कबाड़ जुटाकर;
उठ रहा धुआं सुर्ख-आग के गोले से-
धीरे-धीरे सुहाना ताप;
तन को गरमी पहुंचा रहा था|
समझ कर देखा ….-
उर्ज़ा यह तुम्हारे याद की थी,
कुहासे में सब कुछ ढ़क गया था;
कंही भी साफ़ दिखाई नहीं देता!
बस कुहासा लिपटी हुई ओसों से,
भीगी नीरवता,लगा मेरे सारे,
अरमान एक साथ रो पड़े!
तो,मैं और मेरी तन्हाई—
मौसम की चादर ओड़े खड़े थे,
जहाँ पिघल रहे थे अरमान ,
बह रही थी नयनो की आद्रता;
असमंजस परिस्थिति-का एहसास,
मेरी आँखें कोहरे से धुंधली;
मेरे दोनो हाथ बर्फ़ से सुन,
मेरे चहरे से फटकर खून रिसने लगा!
मेरा दिल सर्दी से ठिठुरने लगा!
दिल में ये र्दद कब उठा ?
कब शरीर का एक-एक हिस्सा,
ज़मकर बेज़ान होने लगा?
तुम्हारे ठंडे पन से !|!
कब तक ये सिलसिला चला,
बदलते मौसम की तरह;
जब कि मुझे मालूम है,
मेरा शरीर पूर्ण स्वस्थ था|
जिसे चलना दूर बहुत,
अब जख्मीं हालात मे;
आश नहीं आगे धूप से भरे दिन,
पत्थरों के जंगल में,
दुर्लभ होगी छाँव भी..!
विस्मृत-सा,थका देह-पिंजर,
दिल मे ववंडर सा उफ़ान ,
दिल की नाव मझधार है।
दिल ने कैसे हवाओं से !
मौसम की चाल ली है,
मैं अनुभूतिहीन बेगाना-अनजान |

सजन कुमार मुरारका

Leave a Reply