तलाश में सुकून की बेकरार हो गया

तलाश में सुकून की बेकरार हो गया,

एक तिश्नगी है सर पे सवार हो गया,

आवारा बन भटकता हूं सफर में जिन्दगी के,

हाय शायद मुझको भी है प्यार हो गया.

     -सुहानता ‘शिकन

2 Comments

  1. CB Singh 11/02/2013
    • SUHANATA SHIKAN SUHANATA SHIKAN 14/04/2013

Leave a Reply