हक है मुझे कि दीदार किया करूं

हक है मुझे कि दीदार किया करूं;

बेखुदी में खुद को बेकरार किया करूं,

कभी तो बेखुद होकर मिल जायेंगी हमको,

इतना तो उस खुदा पे ऐतबार किया  करूं.

            ः- सुहानता ‘शिकन’

Leave a Reply