कभी खुद पर हंसो

इश्क वालों की बाते बनाना बहुत आसान है

पर कभी इश्क में फंसो तो जानें

एम.सी.डी की गन्दगी पे मुस्कुराना बहुत आसान है

पर कभी गटर में धँसो तो जानें

काले जुते को घर के बाहर लटकाना बहुत आसान है

पर कभी स्वाद भी चखो तो जानें

अरे! गैरों का मजाख उड़ाना बहुत आसान है

पर कभी खुद पर हंसो तो जानें

______________________________

गुरचरन मेह्ता

 

One Response

  1. rushabh shukla 25/01/2013

Leave a Reply