मिलो- नमिलो हकीकत में तुम

मिलो न मिलो हकीकत में तुम,  तो क्या गम है,

  ख्वाबों का सहारा लेलेंगे .

   किस्मत में नहीं किनारे अगर,

    तेरी  यादों के समुन्दर में खुद को डुबो लेंगे.

   और तू फिक्र्र  न कर अपने बदनाम होने का,

   हम अपनी आखरी सांसे भी बड़ी  खामोसी से लेंगे.

  मिलो न मिलो हकीकत में तुम,  तो क्या गम है,

      ख्वाबों का सहारा लेलेंगे.

                 दिखो न दिखो घर के झरोखों से तुम ,

                 तेरी तसवीर से ही  नजरे चुरालेंगे

                  और सुनो न सुनो मेरी मजबूरियों को तुम,

                 तुझे ख़त में सबकुछ लिखेंगे और फिर जला देंगे.

                 और तुझतक राख भी न पहुंचे मेरी चाहत का ,

                                घर से दूर, किसी बहते हुए दरिया  में बहा  देंगे.

                  मिलो न मिलो हकीकत में तुम,  तो क्या गम है,

                                  ख्वाबों का सहारा लेलेंगे .

   तुम अफ़सोस भी न कर सको मेरे कब्र पे,

   कुछ ऐसा भी हद बना जायेंगे ,

  तुम खोजोगे अपने शहर  की भीड़ में ,

  हम  आजाद परिंदों से  कही दूर उड़ जायेंगे .

 और तुझतक खबर भी न पहुंचे मेरे मौत का ,

 हम  गुमनाम अंधेरों में थक कर कहीं सो जायेंगे.

 मिलो न मिलो हकीकत में तुम,  तो क्या गम है,

  ख्वाबों का सहारा लेलेंगे .                                                        (अभिषेक उपाध्याय )

Leave a Reply