देश के प्यारे अन्ना हजारे

अन्ना हजारे अन्ना हजारे
तुम हो सारे देश के प्यारे।।
जनलोकपाल बिल लाना ही होगा
जड़ से भ्रष्टाचार मिटाना ही होगा।।
जनता रोये कहाँ से खाऊँ
नेता सोचे क्या-क्या खाऊँ ।।
जाति, धर्म का भेद बढ़ाकर,
देश को लूटे विद्वेष फैलाकर।।
जब से अनशन पर तू है बैठा
नेताओं का दिल जोर से ऐंठ़ा।।
लोकपाल जब होंगे पद पर
भ्रष्टाचारी होंगे जेलों के अंदर।।
संसद बने जनतंत्र का मंदिर
चोर लुटेरे घुसे न अंदर।।
देश में चल रही तेरी आँधी
लोग कहें तुझे दूजा गाँधी।।
अन्ना हजारे, अन्ना हजारे,
तुम हो सारे देश के प्यारे।।
——————————स्वप्निल सौरभ

Leave a Reply