तुमसे कभी न मोहब्बत करेंगे !!

सूजी इन आँखों में आँसू, आज भी हैं !
वक़त से मिले जख्म, अब भी गहरे हैं !
होकर बेकसूर हम, कसूरवार बन गए,
देखने तक की उन्हें, फुर्सत न हुई,
जो खून से अश्क बह रहे हैं !

प्यार का नकाब पहन,
वो आए क्या उनकी ज़िन्दगी में,
हो गए शामिल हम,
गैरों की गिनती में !

सिसकती मेरी हर साँस,
एक ही सवाल पूछती है,
हो गया इश्क हमे,
क्या यही हमारी गलती है ?

मुंह तुमने इसकदर फेर लिया हमसे,
दर्द तो दूर, हमारे प्यार से भी, महरूम न हो सके !

दिल के दरवाज़े आज, हमने भी बंद कर लिए !
दर्द जो मिले तुमसे, उन्हें हिफाज़त से रख लिए !
अब तुमसे कोई उम्मीद न रखेंगे,
जो प्यार हमारा नहीं, उसकी अब चाहत न करेंगे !
दिल में तुम्हे महफूज़ रख,
तुमसे कभी न मोहब्बत करेंगे !!

-श्रेया आनंद
(16th Dec 2012)

6 Comments

  1. Onkar Kedia 12/01/2013
    • Shreya Anand Shreya Anand 20/01/2013
  2. चिराग राजा 13/01/2013
    • Shreya Anand Shreya Anand 20/01/2013
  3. Muskaan 16/04/2013
    • Shreya Anand Shreya Anand 31/12/2014

Leave a Reply