आज की बुनियाद पे टिका है मेरा कल

आज की बुनियाद पे टिका है मेरा कल,

कल खोजेन्गे तो कुच भी ना साथ दिखाई देगी,

कि मैने अपने एक कल के लिये एक अपने आज को है छोडा,

मगर ऐतबार है उस खुदा पे कि वह मुझे कल भी मिल जयेगी.

                                                                   ः-सुहानता ‘शिकन’

Leave a Reply