काश कोई दिल के करीब हुआ करती

काश कोई दिल के करीब हुआ करती,

                    एक हंसी मुझको भी नसीब हुआ करती,

तडपता नही मै उजालो से डरकर,

                 सासो ंमे जो घुलती वो अजीज हुआ करती.

                                                                     ः-सुहानता ‘शिकन’

One Response

  1. AKHILESH RATRE 16/01/2013

Leave a Reply