सोचता हू के सोच के बोलू

सोचता हू के सोच के बोलू,

                     कहते है सोचने से बात निखर जाती है,

                     सामने वाले पे इम्प्रेशन बड जाती है,

कि यकीनन मै जो कहना चाहता हू वो कह भी जाता हू,

                    मगर वो सही होकर भी सही नही हो पाती है,

                     जो बात को कहने मे जरा देर हो जाती है.

                                                                           ः-सुहानता ‘शिकन’

One Response

  1. HARISH 03/01/2013

Leave a Reply