हाय! री ये किस्मत…

ये गाना दिल्ली गैंग रेप पीड़ित दिवंगत दामिनी को श्रधान्जली है।

हाय! री ये किस्मत…

यह गाना यूट्यूब पर है, गाना सुनने वा देखने के लिये नीचे दिये लिन्क को क्लिक करे…

Hay Ri Ye Kismat… Youtube link…

कब तक लुटेगी अस्मत, 

हाय! री ये किस्मत…

अब इक नए वक़्त का आगाज़ करना है।

अत्याचार के खिलाफ आवाज़ करना है।।


यूँ ना कोई नोचे, यूँ ना कोई दबोचे।

हममें भी एक जान है, हर कोई ऐसा सोचे।।

हवस के गलों पर तमाचा जड़ना है।

अत्याचार के खिलाफ आवाज़ करना है।। 

आवाज़ करना है, आगाज़ करना है।।


अब तय कर लिया है, हमने सबक लिया है।

सदियों से सह रहे थे, अब नहीं सहना है।।

अपनी आज़ादी का परवाज़ करना है।

अत्याचार के खिलाफ आवाज़ करना है।। 

आवाज़ करना है, आगाज़ करना है।।

Leave a Reply