अकेलापन

भीड भरी दूनिया में,

आज इन्सान अकेला है !

करता है जो जग को रोसन

आज वो सूरज अकेला  है!

 

करता जो मेहनत-मजदूरी

अपनो को सुख देने के लिए

अपनो से भरे आँगन में

आज वो इन्सान अकेला हैं!

 

कर-कर मेहनत थक जाता

पर ना थकता, अपनो को गले लगाने से,

उन्ही अपनो की चौखट पर

आज वो इन्सान अकेला है!

 

जब-तक आता था न खेत से

इन्तजार वो हीरे करते थे,

उन्ही हीरो के हार के बीच

आज वो इन्सान अकेला है !!

राजमोहन शर्मा ‘साहवा ‘

Leave a Reply