अलाव

अलाव

 

तुमसे अलग होकर

घर लौटने तक

मन के अलाव पर

आज फिर एक नयी कविता पकी है

अकेलेपन की आँच से

समझ नहीं पाती

तुमसे तुम्हारे लिए मिलूँ

या एक और

नयी कविता के लिए ?

Leave a Reply