छूट गए साथ निभाने वाले

छूट गए साथ निभाने वाले

वक्त की करनी ही कुछ ऐसी थी

जिसको पूनम का चांद समझा

वो अन्दर से कालिख जैसी थी

                                                                             ः-  सुहानता ‘शिकन’

Leave a Reply