दर्द मे हंसना आ जाए जब तभी कहें कि जिन्दा है

दर्द मे हंसना आ  जाए जब तभी कहें कि जिन्दा है,

                                   सजदे कोई  शिश  झुकाले समझ  ले आप चुनिन्दा है,

यु तो लोग जमाने मे लाख  तरह से जीते है,

                                    मगर वो जीकर क्या जिन्दा जो हर कही शर्मिन्दा है.

                                                                                                           ः-सुहानता ‘शिकन

Leave a Reply