मुक्‍तक

 

जिसे तू भगवान कहता है, वो रहमान कहता है।

 

तू जिसपर  जान देता है, उसीपे वो भी मरता है।।

पंडित को गिला कोई न मुल्‍ला को शिकायत है।

पर   ये     नेता    इसी     ही      पाप     कहता    है।।

Leave a Reply