अनारकली

अनारकली 

अकबर के दरबार मे

हुई खलबली
जब शलिम कि एक कनिज से
मोहब्बत हो चली
अकबर दहाडे
कौन न है वो बेगैरत ?
औरत!
शालिम बोला
जहापनाह !
वो बेगैरत नही
वो है अनारकली
वादशाह ने अनारकली को
दरबार मे हाजिर करवाया
हुकुम् दिया शैनिको को
चुन दो दिवार मे
इस कनिज को
जिसने हिन्दुस्तान कि ताज को
बहकाया
अकबर कि आँखो से
निकल ने लगे शोले
वो क्रोधित होकर
अनारकली से बोले
तु कनिज !
तुझे डर नही लगता
मरना  है क्या?
अनारकली बोलि
हुजुरे आलम!
जब प्यार किया तो
डरना  क्या!!
हरि पौडेल 

 

Leave a Reply