कलम को अपने खंजर न होने देना….

जुदा नज़र से मंज़र न होने देना ,
ज़मीं दिल की बंजर न होने देना ,

लुटाना मुहब्बतें जितनी भी हो सके ,
कलम को अपने खंजर न होने देना !!

Leave a Reply