अंगार कैसे आ गए?

हर दिशा के हाथ में अंगार कैसे आ गए ।

बेकफ़न ये लाश के उपहार कैसे आ गए ॥

 

मोल मिट्टी के बिके हैं ,शीश कल बाज़ार में ।

दोस्तों के वेश में ,खरीदार कैसे आ गए ॥

सरहदों के पार था अब तक लहू अब तक क़तल

देखते ही देखते इस पार कैसे आ गए ॥

सिर उठाती आँधियाँ ,ये खेल होती हैं नहीं ।

नमन करने को इन्हें लाचार कैसे आ गए ॥

यही चले थे सोचकर कि अमन अब हो गया।

खून के बादल यहाँ इस बार कैसे आ गए ॥

-0-

Leave a Reply