कैफियत

जेहन    में     अब     कोई    ख्वाबो-खयालात   नहीं,

इन अंधेरों में       रौशन   कोई आफताब  नहीं,  1

रूह अटकी     हुई   सी     लगती     एक   पिंजरे में

जिस्म ठंडा    है,  साँसों   में   कोई  ताब    नहीं,2

दश्त में   हरसू   शोर   बरपा है   बेकस     परिंदों का

तीलीयाँ  हो गए हैं शज़र,गुलों पे कोई    शवाब नहीं,3

ये    कैसा     आलम    है   क्या    नाम  दूं  इस को,

सिवा    इसके निगाहों    में     कोई सवालात नहीं 4

घर से    निकला    था ‘असर’   मैकदे   की तलाश में ,

मिले रिंद, मिले पियाले , मगर जरासी शराब नहीं 5

 

Leave a Reply