‘हाले दिल’

“जाने किस बात का रंज हर पल रहता है,

चैन मिलता नही’ दिल मे’ खलल रहता है,

जाने क्या बात है जो दिल मे’ फंसी रहती है,

बडा बेरूखा सा हाले दिल रहता है…..