दिल की आवाज़ें

दिल की आवाज़े,
सच से कहीं दूर,
पर नापती ख़्यालो के पैमाने।

दिल की आवाज़े,
मुट्ठी भर रेत है,
गिर,ढूंढती फिर ठिकाने।

दिल की आवाज़े,
बरबादो को आस दिखा दे,
भले ही झूठ के बहाने।

दिल की आवाज़े,
बिन विचारे बह आती हैं,
ला छोड़ उम्मीदें किनारे।

Leave a Reply