फिर कहाँ से तुझे गुलाब मिलेगा….

शहर में तेरे भी सैलाब मिलेगा ,
मुखालफ़त का असबाब मिलेगा ,

जब बोये हैं हर सिम्त कांटे तूने ,
फिर कहाँ से तुझे गुलाब मिलेगा !!

Leave a Reply