नशा तेरी आखों का

कुछ तो रात के नशे मे हूँ, कुछ नशा तेरी आखों का है.

बरबाद मै यूँ ही नही हुआ, कुछ तो कसूर तेरी निगहो का है.

 

Kuchh To Raat Ke Nashe Me Hu, Kuchh Nasha Teri Aankho Ka Hai.

Barbaad Mai Yu Hi Nahi Hua, Kuchh To Kasoor Teri Nigaho Ka Hai.

Leave a Reply