तुझसे मुलाकात का अफसाना

साफ लफ़्जो मे लिखता हूँ तुझसे मुलाकात का अफसाना कुछ इस तरह सेः

कुछ गुस्ताखी लफ्ज़ो ने की, कुछ नज़रो ने की, और दिल को थामे बैठे रहे हम.

कुछ वक्त गुजरा इसी तरह से और अपनी मुस्कान से एक और जख़्म देकर चले गये तुम.

Leave a Reply