परी हूँ मै

 जस्बातों की गठरी सी बंधी

हर रिश्ते की आग्हाज हूँ मै

कुछ और नहीं बस एक लफ्ज है यारों

इस दुनिया का अंजाम हूँ मै

आसमा में जब देखो तो

बादलों का पानी हूँ मै

किसी से अनजानी नहीं बस

सबकी यादों से बेगानी हूँ मै

पर्वतों की ऊंचाई से

समंदर की गहराई हूँ मै

हर किसी के सोच से परे

सबकी उमीदों में समाई हूँ मै

इन्द्रधनुष की परछाई सी

रंगों से भरी हूँ मै

दुनिया के लिए बस हूँ एक लड़की

पर अपने माँ बाबा की परी हूँ मै

Leave a Reply