“सेदोका”..एक नया प्रयास !!!(भाग -एक )

मन उदास
सिर्फ है एहसास
भूली बिसरी यादें
आशांये टूटी
बीत गई जवानी
जिंदगी की कहानी
******************
कल गुजरा
हर एक कल मे
खेल आने जाने का
समझो इसे
कल नहीं आयेगा
आज है ,कल होगा
*********************
पड़ लिख वे
काबिल बनने को
घर कों छोढ़ चले,
रोटी के लिये
असहाय -जीवन
स्तब्द है अभिमान
*********************
तुम्हारे साथ
बिताये हुवे पल
जला रहे हैं मुझे
तुम्हारे बिना
पलक बिछाये हूँ
काटे न कटे पल
*************************
पंख चाहिये
देना कोई पैगाम
प्रियतम के नाम
उड़ जाऊंगा
मन में है बिश्वास
पंख अगर होते
************************

सजन कुमार मुरारका

Leave a Reply