रात ढलती रही चाँद जलता रहा….

हया का रंग हुस्न पे चढ़ता रहा ,
फासला दरमियाँ और बढ़ता रहा ,

उनके चेहरे से नज़रें न हट सकीं ,
रात ढलती रही चाँद जलता रहा !!

Leave a Reply