ये कलम भी है तलवार भी है….

हौसले की बुलंद दिवार भी है ,
जंग के वास्ते हथियार भी है ,

हमें पता है मुफीद -ऐ- मसरफ ,
ये कलम भी है तलवार भी है !!

Leave a Reply