न शम्मा बची न परवाना बचा….

न हकीक़त बची न फसाना बचा ,
न हसीना बची न दीवाना बचा ,

कुछ ऐसी आग लगी महफ़िल में ,
न शम्मा बची न परवाना बचा !!

Leave a Reply