रोना भी हमने चाहा तो रोया नही गया…..

रोना भी हमने चाहा तो रोया नही गया.
फूलो के बिस्तरो पे भी सोया नही गया.
जब प्रीत के वो गीत टूटकर बिखर गये.
फिर हमसे कोई शब्द पिरोया नही गया..

2 Comments

  1. sandeep 16/11/2012
    • गौरव 'गाफिल' gaurav gaafil 16/11/2012

Leave a Reply