हूक

एक हूक
गाँव से काम की तलाश में आए
भाई को टालकर विदा करते उठती है परदेस में

एक हूक
जो बूढ़े पिता की

ज़िम्मेदारियों से आँख चुराते हुए उठती है

माँ की बीमारी की सोच
उठती है रह-रह

बहन की शादी में
छुट्टी नहीं मिलने का बहाना कर
नहीं पहुँचने पर

मैं उस हूक को
कलेजे से निकाल
बेतहाशा चूमना चाहता हूँ

मैं प्रणाम करना चाहता हूँ
कि उसने ही मुझे ज़िन्दा रखा है

मैं चाहता हूँ कि वह ज़िन्दा रहे
मेरी आख़िरी साँस के बाद भी

मैं आँख के कोरों में
बेहद सम्भाल कर रखना चाहता हूँ
कि वह चुए नहीं

हूक ज़रूरी है
सेहत के लिए
हूक है कि
भरोसा है अभी भी अपने होने पर

हूक एक गर्म अंवाती बोरसी है
सम्बन्धों की शीतलहरी में।

Leave a Reply