साठ पार के माँ-बाबूजी

जैसे कि एक की साँस का होना
दूसरे के लिए बेहद ज़रूरी है

एक जो पहले सोता है
लेता है खर्राटे ज़ोर-ज़ोर से

और दूसरे जागता रहता है उसके सहारे, उसकी डोर थामे

उसके लिए यह साँसों की आवाज़ एक आश्वासन है
जीने की लय
जीने का जरिया और मतलब
जीने की वज़ह

एक का खर्राटा बचाता है दूसरे को अकेला होने से

कभी-कभी लगता है खर्राटे लेने वाला करता रहता है दूसरे की साँस की रखवाली।

Leave a Reply