सच के पास आदमी नहीं है

सच का भूत
घूम रहा है दरबदर
ढूंढ़ता हुआ एक आदमी
उसे आदमी नहीं मिलते
वह जिसके साथ रह सके।
चारों तरफ भरा पड़ा है सच।
हज़ार-हज़ार आँखों से देखा जा सकता है।
क्षण-क्षण महसूस किया जा सकता है
मगर उसके पीछे आदमी नहीं है
इसलिए सच-सच नहीं है।

आदमी
सच से भयभीत
बुदबुदाता है कहीं नहीं है सच।
सच का अभाव है
सच का नहीं है अस्तित्व।
आदमी के पास सच नहीं है
और
सच के पास
आदमी नहीं है।

Leave a Reply