“त्रिशूल”……(द्वितीय चरण)..!!!

“त्रिशूल”……(द्वितीय चरण)..!!!

क़ुदरत का बड़ा अज़ुबा,हर इन्सान को जन्मती औरत
इन्सान का बड़ा अज़ुबा,इन्सानों के हाथ मरती औरत
……………………………………………………
कुदरत भी अचरज़ मे- इन्सान बनाया,बन गया शैतान
***********************************
खंज़र से लगा ज़ख्म फिर भी भर जाता
ज़ुबां से लगा ज़ख़्म कभी भर नहीं पाता
…………………………………………………….
बोलो जब भी, बोलो मीठा बोल
***********************************
मुल्क की हिफाज़त थी जिन के नाम
उन्हों ने ही किया इसका काम तमाम
……………………………………………………..
चोर के हाथों मे दिया चाबी थमाय
***********************************
ख़ुशी के लम्हों मे आंसू निकल आते
ग़म की बात ही क्या, आसूं तो बहते
……………………………………………………..
आसुंओं पर न जाओ,इनकी अलग सी दास्तां
**********************************
बड़ी मुद्द्त से चाह थी कोई दिलरुबा मिले
मिले भी तो सनम,बड़े ही वह बेवफा मिले
……………………………………………………..
प्यार को असर अब दिल मे नासूर सा बसता
************************************
पेट की भूख सब से बड़ी बीमारी और लाचारी
धर्म,इमान कुच्छ भी नहीं बचे,पड़े सब से भारी
………………………………………………………
भूखे पेट भजन ना होये नन्दलाला
************************************
आजका मज़नू,भटकता हुआ भंवरा, कुच्छ आवारा,
कली-कली की चाहत,पर काँटों से उलझता बेचारा
………………………………………………………..
परवाने जल जाते यों ही शमा के खातीर
**************************************
महबूब को पाकर, ख़ुशी मे ज़िन्दा थे बेमिसाल
उनको खोकर भी ज़िन्दा हैं लाश सारीका हाल
……………………………………………………….
उनको पाने को जीते थे,अब भी पाने को जीते हैं
*************************************

सजन कुमार मुरारका

One Response

  1. CB Singh 08/11/2012

Leave a Reply