वसंत रंग छायो है / शिवदीन राम जोशी

आनन्द की लहर-लहर लहराई सजीली सखी,
                                 वृन्दावन गोपाल लाल मेरो मन लुभायो है |
श्यामा के संग-संग रंगीलो सयानो श्याम,
                                  सुबरन के स्वर्ण कलश रंग घोल लायो है |
शिवदीन कहे धन्य-धन्य वृजराज राज राजेश्वर,
                              धन्य संत साधू सत्य गोविन्द गुण गायो है |
सुन्दर ऋतुराज आयो सबही ने सरायो ईन्हे,
                                     मगन भये संत यो बसंत रंग छायो है |