यौवन की दहलीज

यौवन की दहलीज

यौवन  की  दहलीज पे,   यूं  चहकने लगे।

चांदनी   रात में  रातरानी,  महकने लगे।।

नजरों   ने  किया,  नजरों   का सामना।

लाजवंती   से  खुद,  में  सिमटने   लगे।।

सावन   जो  रूलाया,  गीत पे गीत गाकर।

ओंस   की  बूंद  पंखुडी  में चमकने लगे।।

 सदियों   के  विरह का, हुआ जो समापन।

एक धडकन हो, आगोश में सिमटने लगे।।

नाजुक   सी  काया,  चली  जो गली से।

दीपक   की  लौ,  कोई  मचलने  लगे।।

 पायल जो मचला, चूडी जो खनकी हंसी खिलखिलायी।

शिवाला   की  घण्‍टी,   कानों  में  बरसने  लगे।।

पंचत्‍त्‍वों   की तुम पे   पडी  जो  श्रीनू नजर।

चल को अचल को जमीं आसमां को खटकने लगे।।

                                                                                                                                         यौवन   की दहलीज   पे, यूं   चहकने  लगे।

      चांदनी   रात में  रातरानी,  महकने लगे।।

 

 

Leave a Reply