मुक्तक

इनायत जब खुदा की हो तो बंजर भी चमन होता
खुशियाँ रहती दामन में और जीवन में अमन होता
मर्जी बिन खुदा यारों तो जर्रा भी नहीं हिलता
अगर बो रूठ जाए तो मुयस्सर न कफ़न होता

मुक्तक प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

Leave a Reply