मुक्तक

मयखाने की चौखट को कभी मदिर न समझना तुम
मयखाने जाकर पीने की मेरी आदत नहीं थी
चाहत से जो देखा मेरी ओर उन्होंने
आँखों में कुछ छलकी मैंने थोड़ी पी थी

मुक्तक प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

Leave a Reply