मुक्तक(किस्मत)

रोता नहीं है कोई भी किसी और के लिए
सब अपनी अपनी किस्मत को ले लेकर खूब रोते हैं
प्यार की दौलत को कभी छोटा न समझना तुम
होते है बदनसीब ,जो पाकर इसे खोते हैं

मुक्तक प्रस्तुति:
मदन मोहन सक्सेना

Leave a Reply